Free BANS-183 Solved Assignment Hindi Medium (2020-21)

B.A.N.S-183

पर्यटन मानवविज्ञान

सत्रीय कार्य-I

1- मानवविज्ञान और पर्यटन के बीच संबंध पर चर्चा करें।

उत्तर – मानवविज्ञान समय और स्थान (टाइम स्पेस) में मनुष्य के जीवन का अध्ययन करता है| समय मूल रूप से भूवैज्ञानिक समय के पैमाने को दर्शाता है जिसमें मानव की उत्पत्ति, विकास और भिन्‍नता का अध्ययन शामिल है। स्थान, मानव आबादी के पारिस्थितिक और पर्यावरणीय संबंधों से संबंधित है जो पृथ्वी पर विभिन्‍न स्थानों में रहते हैं। मानवविज्ञान मेपुरानी संस्कृतियों के साथ-साथ वर्तमान में फलने-फूलने वाली संस्कृतियों का अध्ययन भी शामिल है| यह अन्य विषयोँ के विपरीत समग्रता में मनुष्यों का अध्ययन करता है जहां अन्य विषयों में केवल मानव के किसी विशेष पहलू को ध्यान में रखा जाता है जैसे इतिहास, अतीत में जो हुआ उससे संबंधित है जबकि मनोविज्ञान, मानव मन आदि का अध्ययन करता है।

   मानवविज्ञान शब्द दो ग्रीक शब्दों “एश्रोपोए” जिसका अर्थ मानव और “लोगोस’ का अर्थ अध्ययन! से लिया गया है।

   एक शैक्षिक विषय अनुशासन के रूप में मानवविज्ञान अपनी चार प्रमुख शाखाओं, (क) भौतिक मानवविज्ञान, (ख) सामाजिक-सांस्कृतिक मानवविज्ञान, (ग) पुरातात्विक मानवविज्ञान और (घ) भाषाई मानवविज्ञान के साथ बीसवीं शताब्दी में उमरा। जो वैज्ञानिक और मानवतावादी दोनों दृष्टिकोणों से देखता है और समग्र दृष्टिकोण को ध्यान में रखता है।

  समाज और संस्कृति का अध्ययन सामाजिक और सांस्कृतिक मानवविज्ञान के क्षेत्र में आता है। विषय का सबसे महत्वपूर्ण योगदान दुनिया भर मेँ विभिन्‍न समाजों और संस्कृतियों को समझने में रहा है, दोनों अपने उद्देश्य महत्व को पेश करते हुए, पक्षपात और पूर्वाग्रहों से दूर रहे हैं। सामाजिक और सांस्कृतिक मानवविज्ञान सामाजिक संस्थानों और सांस्कृतिक विशेषताओं को समझना चाहता है, जो समग्र रूप से मानव समाज का निर्माण करते हैं। मानवविज्ञानी अतीत में रुचि रखते हैं, विभिन्‍न सांस्कृतिक अवधियों के दौरान लोग कैसे रहते थे यह पुरातात्विक मानवविज्ञान का विषय क्षेत्र है। इसका उद्देश्य प्रागैतिहासिक मानव द्वारा उपयोग किए गए विभिन्‍न उपकरण प्रकारों के अध्ययन के माध्यम से मानव अतीत को फिर से जोड़ना है, जिनमें कोई लिखित रिकॉर्ड (साक्ष्य) नहीं हैं। इनमें गुफा कला का अध्ययन, पुरापाषाण, मध्यपाषाण और नवपाषाण काल के भीतर विभिन्‍न सांस्कृतिक अवधियों में पत्थर के औजार, चालकोलिथिक काल और इससे पूर्व की सभ्यताओं की कला और कलाकृतियां शामिल हैं। अतीत को निरपेक्ष और सापेक्ष तिथी निर्धारण (डेटिगं) की विधियों द्वारा पुनः निर्मित कर प्रागैतिहासिक मानव के पूर्व जीवन का अध्ययन किया जाता है।

   भाषा को संस्कृति के लिए वाहन के रूप में जाना जाता है | अभी तक न तो कोई एक संस्कृति है और न ही एक भाषा। हालाँकि, संचार हमेशा अलग-अलग भाषा बोलने वाले लोगों के बीच होता रहा है। भाषाई मानवविज्ञान में भाषाओं का अध्ययन शामिल है जो विभिन्‍न भाषाई समूहों से संबंधित लोगों के बीच संचार का एक माध्यम रहा है। इसमें केवल मौखिक भाषा ही नहीं, बल्कि भावमँगिमा (बाडी लैंगग्विज) और सांकेतिक भाषा दोनों शामिल हैं| हाल ही के एक अध्ययन में तुर्की के एक गाँव को दिखाया गया है जहाँ लोग सीटी बजाकर संपर्क करते हैं। आधुनिकीकरण और वैश्वीकरण के सामने कुछ बोलियां तेजी से गायब हो रही हैं, ऐसी बोलियों को संरक्षित और प्रलेखित करना भाषाई मानवविज्ञानी की एक प्रमुख गतिविधि है।

   मानवविज्ञान का उद्भव पूर्व की खोज और उपनिवेशीकरण की यूरोपीय यात्रा में निहित है। प्रारंभिक वर्षों के दौरान ‘आर्म चेयर एन्थ्ोपोलॉजिस्ट’ के रूप में मानवविज्ञानीक्षेत्रुफील्ड) में डेटा संग्रह के लिए उद्यम नहीं करते थे।

    1890 मेँ सर जेम्स फ्रेजर द्वारा गोल्डन बाउ में प्रकाशित पहले लिखे लेख यात्रियों, प्रशासकों, मिशनरियों आदि के कथन पर आधारित थे, जिन्होंने दूर-दूर की जगहों की यात्रा की और स्थान, लोगों और उनकी संस्कृतियों को “अनोखी” कहानियों के तौर पर प्रस्तुत किया।

   समय के साथ, मानवविज्ञान को एक क्षेत्र विज्ञान(फील्ड साइंस) के रूप मेँ स्थापित किया गया और क्षेत्रीयकार्य मानवशास्त्रीय अध्ययन की पहचान बन गया। ट्रोब्रिएंड आइलैंडर्स के बीच मालिनोव्स्की के काम को प्रतिभागी अवलोकन, साक्षात्कार और केस स्टडी विधियों का उपयोग करते हुए ‘मूल निवासियों ‘ के बीच वैज्ञानिक क्षेत्रीयकार्य (फील्डवर्क) करने की विधि के रूप में माना जाता है | आदर्श रूप से एक वर्ष की लंबी अवधि तक अध्ययन क्षेत्र के लोगों के साथ रहना और स्थानीय भाषा का उपयोग करना मलिनोवस्की के काम

को अग्रिम श्रेणी में रखता है, जो आज भी मानवशास्त्रीय अध्ययन की रीढ़ हैं। फील्डवर्क का महत्व तीन बुनियादी सवालों को समझने में है जिसे मलिनोवास्की ने अपने काम के दौरान पूछा था:

   पर्यटन का एक लंबा इतिहास है और मानव जाति की संस्कृतियों में व्याप्त है| यह समकालीन लोगों के जीवन का एक महत्वपूर्ण सामाजिक तथ्य है| यह दुनिया के प्रमुख उद्योगों में से एक है और विकासशील देशों (तीसरी दुनिया) के कई राष्ट्रों के लिए एक विकास का साधन है | स्मिथ ने अपनी पुस्तक, होस्ट्स एंड गेस्ट्स: द एंश्रोपोलॉजी ऑफ टूरिज्म (1989) के प्रस्तावना में पर्यटक को ‘एक अस्थायी रूप से कार्यनिवृत्त व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया है जो स्वेच्छा से एक परिवर्तन का अनुभव करने के उद्देश्य से दूसरी जगह पर जाता है।’ व्यक्ति को पर्यटन हेतु प्रेरित करने के लिए कई कारक हैं, लेकिन पर्यटन की नींव तीन प्रमुख स्तंमो पर पर टिकी हुई है, अर्थात

पर्यटन = अवकाश का समय + विवेकाधीन आय + सकारात्मक स्थानीय स्वीकृति |

स्मिथ के अनुसार किसी व्यक्ति के पास समय और विवेकाधीन आय (भोजन, कपड़े, आवास, स्वास्थ्य-देखभाल, परिवहन आदि जैसे व्यक्तिगत्त आवश्यक वस्तुओं के लिए आवश्यक आय नहीं है) और पर्यटन के पक्ष में सकारात्मक सांस्कृतिक स्वीकृति एक व्यक्ति को उसके नियमित,” नीरस जीवन से एक विशम लेने की स्वीकृति देते हैं। एक गतिविधि के रूप में पर्यटन एक व्यक्ति को छोटी अवधि के विश्राम के साथ उसके कार्य जीवन को वैकल्पिक करने का अवसर देता है| जे.जाफरी (1977) ने पर्यटन को ‘मनुष्य के अपने सामान्य निवास स्थान से दूर उद्योग के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया, जो कि उनकी आयश्यकताओं की पूर्ति करता है, और सामाजिक-सांस्कृतिक, आर्थिक और भौतिक वातावरण पर पर्यटक और पर्यटन उद्योगों का भी अध्ययन करता है।’ मैथिसन और वॉल (1982) ने अपनी पुस्तक टूरिज्म: इकोनोमिक, फिजिकल एंड सोशल इग्यैक्ट में पर्यटन को निम्नलिखित शब्दों में परिभाषित किया है, एक बहुआयामी घटना के रूप में, जिसमें आवाजाही शामिल है, और निवास के सामान्य स्थान के बाहर गंतवब्यों में रहना जिसमें गतिशील, स्थिर और परिणामी तत्व शामिल हैं || जबकि जाफरी की परिभाषा एकसमग्र दृष्टिकोण देती है, वहीं मैथिसन और याल पर्यटन को एक घटना के रूप में वर्णन करते हैं| ग्रीनवुड जैसे अन्य विद्वानों ने पर्यटन पर मानवशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य के बारे में चर्चा करते हुए सांस्कृतिक वस्तुकरण के रूप में पर्यटन को माल, सेवाओं और लोगों के बड़े पैमाने पर गतिशीलता के रूप में परिभाषित किया जो मानवता ने शायद कभी देखा है’| लेट (1989; 275) ने दुनिया के इतिहास में सांस्कृतिक सीमाओं पर लोगों के सबसे बड़े शांतिपूर्ण गतिशीलता को लाने के लिए पर्यटन को श्रेय दिया| मानवविज्ञानी के लिए पर्यटन को परिभाषित करना बहुत कठिन है क्योंकि इसमें विभिन्‍न आयाम शामिल हैं, लेकिन जैसा कि वैन हैस्लर ने अपनी पुस्तक टूरिजृम’ एन एक्स्रप्लोरेशन (1994) में कहा कि पर्यटन के चार प्राथमिक तत्व हैं| ये हैं:

  • यात्रा की मांग
  • पर्यटन मध्यस्थ
  • गंतव्य प्रभाव
  • प्रभावों की सीमा

2- एथनोग्राफी (नृवंशविज्ञान) और पर्यटन का वर्णन करें।

उत्तर – नृवंशविज्ञान जो पर्यटन का अध्ययन करने के लिए मानवविज्ञानी सहित सामाजिक वैज्ञानिकों द्वारा नियोजित अनुसंधान की एक महत्वपूर्ण खोज और महत्वपूर्ण विधि है, पर्यटन की जांच करते समय कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि पर्यटन स्थल, पर्यटक (मेहमान) और मूल निवासी (मेजबान), सभी की स्थिति दिलचस्प लेकिन जटिल है जिससे पर्यटन अन्वेषण और जटिल हो जाता है।

   मानवजाति वर्णन मानवविज्ञान जाँच का एक आंतरिक हिस्सा है। यह एक कार्यप्रणाली है| जिसमें खुद को पहले एक विधि के रूप में और फिर एक उत्पाद के रूप में स्थापित करने की विश्वसनीयता है। इसमें समय की लंबी अवधि के लिए लोगों के साथ प्रत्यक्ष जुड़ाव और अधिमानत: संस्कृतियों के बारे में “प्रामाणिक” जानकारी इकट्ठा करने के लिए स्थानीय भाषा का उपयोग शामिल है। पर्यटन अध्ययन के मामले में उपयोग की जाने वाली यह पद्धति उन पहलुओं को उठाती है जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

1. कार्यक्षेत्र// पर्यटक स्थल

पर्यटक स्थलों में से अधिकांश ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण रहे हैं और लोग उन स्थानों के बारे में अपने मन की आंखों में अद्गुत या आदर्श छवि को पुनः बनाने के लिए आते हैं। इस तरह के एक स्थान की छवि पर्यटकों को विभिन्‍न जगहों को देखने का अवसर देती है क्योंकि यह उनकी कल्पना मेँ पढ़ा गया है और यह उनके द्वारा पढ़े गए विवरणों से हैं जो चित्र उन्होंने कहीं और से देखे हैं। इससे उनमें एक विदेशी छाप पैदा होती है जब वे वास्तव में देखते हैं, तो वे इसे वैसा ही चाहेंगे जैसा उन्होंने कल्पना की थी। यह उस विशेष स्थान का अतीत है जिसे वे अपने वर्तमान के बजाय देखना चाहेंगे। इस तरह के स्थलों को बढ़ावा देने के लिए व्यावसायिक रूप से जिम्मेदार लोग ऐसे आदर्शों को जीवित रखने के लिए जिम्मेदार हैं क्योंकि वे भी पर्यटको को यह आश्वासन देते हैं कि इस मौके पर कल्पना, एश्वर्य और भावुकता उनके स्वयं के स्वामित्व में होगी। उदाहरण के लिए, भारत के मामले मेँ, पश्चिमी लोग सपेरोॉ-जादूगरों की आकर्षक भूमि, नग्न धर्म संयासियों और हाथी या सच्चे प्रेम के प्रतीक के रूप में प्रसिद्ध ताजमहल देखना पसंद करेगें।

   ऐसे पर्यटन स्थलों में स्थानीय लोग, इस कल्पित वास्तविकता को अक्षुण्ण रखने के लिए, पर्यटकों के लिए मनभावन व्यवहार करते हैं, जिससे उन्हें अपने साथ संतुष्टि और तृप्ति का एहसास होता है। इन परिणामों को प्राप्त करने के लिए मानवविज्ञानी बहुत से अध्ययन क्षेत्रों में दिल्वस्पी प्रदान करते है।

2. पर्यटक / मेहमान

दूसरे स्थान पर एक पर्यटक स्थल की पहचान न केवल उसके आकर्षण के आधार पर की जाती है, बल्कि स्थान में जाने वाले लोगों द्वारा भी समान रूप से की जाती है और इसे आर्थिक और सांस्कृतिक रूप से व्यवहार्य बनाते हैं| वे आगंतुक, अतिथि का अनुभव करते हैं, जो अनुभव करने के लिए जाते हैं और वे किसी जगह पर क्यों जाते है, सबसे महत्वपूर्ण रूप से अवकाश और आनंद के लिए पर्यटक की उपस्थिति एक नृवंशविज्ञानी के लिए दिलचस्प अध्ययन की अनुमति प्रदान करती है, जो उस स्थान के लिए पर्यटकों के दृष्टिकोण का अध्ययन करता है, पर्यटकों को टकटकी लगाकर देखती है कि पर्यटक स्थानीय लोगों को कैसे देखते हैं, इत्यादि|। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है कि पर्यटक उस आनंद को प्राप्त करना चाहेगा जिसकी उसने परिकल्पना की है, इसलिए यह समझना ज्यादा महत्वपूर्ण है की एक नृवंशविज्ञानी ऐसे परिदृश्यों से कैसे निपटता है जहां अतीत, वर्तमान, कल्पना और वास्तविकता सभी उलझ गए हों।

   एक नृवंशविज्ञानी (एथनोग्राफर) और एक पर्यटक की तुलना करना एक अत्यधिक विवादास्पद क्षेत्र है, जिसमें कई विद्वानों द्वारा बहस की जाती है कि प्रत्येक को क्या भूमिका निभानी है, वे कितने समान या अलग हैं और वे एक पर्यटक द्वारा लिखे गए यात्रा वृत्तांत की तुलना में नृवंशविज्ञानियों द्वारा निर्मित एक नृवंशविज्ञान निबंध की वैधता को सह अस्तित्व में कैसे रख सकते हैं। समाज और उसकी संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने के तरीकोँ में उनकी समानताएं इतनी अधिक हैं कि उन्हें “दूर के रिश्तेदारों” के रूप में भी संबोधित किया जाता है (क्रिक 1995)। जैसा कि अतीत में मानवविज्ञान का विकास मिशनरियोँ, समुद्री यात्रियों, प्रवासियों के विवरणों पर निर्भर था, इसी तरह यह कौन कह सकता है कि पर्यटकों द्वारा उत्पन्न किया गया काम उस दुनिया में मददगार नहीं हो सकता है जहां एक समाज पर नृवंशविज्ञानियोँ द्वारा निर्मित बातचीत के साथ बहस इस प्रश्न को लेकर होती है की “अन्य” क्‍या देखते हैं जो ‘स्व” के साथ दूर करना चाहते हो। यूरी (1990) का दावा है कि अब पर्यटन की प्रक्रियाओं और समाज और संस्कृति की प्रक्रियुओं के बीच किसी भी अंतर को पहचानना मुश्किल है। यह इस उत्तर-आधुनिक दुनिया में धारणा और प्रतिनिधित्व के अलग-अलग पर्यवेक्षकों के लिए अलग-अलग हो सकता है | 1955 में लेवी स्ट्रॉस ने ट्रिस्ट्स ट्रोपिक (1955) को लाया, जो मानवविज्ञानी की यात्रा का एक उत्कृष्ट उदाहरण है और इसे मानवशास्त्रीय महत्व के काम के रूप में रखा जा सकता है, जहां विडंबना है कि स्ट्रॉस यात्रा और यात्रा करने वाले लोगों को घृणास्पद मानते है।

3. मूलनिवासी/ मेजबान

एक महत्वपूर्ण पहलू यह है कि मानवविज्ञानी किस हद तक और किस तरह से मेजबान समुदायों में मेहमानों, पर्यटकों की प्रविष्टि और उपस्थिति से प्रभावित होते हैं| मेजबानों पर पर्यटक की संस्कृति का प्रभाव दिलचस्प हो सकता हैं। मेजबान मेहमानों के तरीके की नकल करते हैं जो समय की अवधि के बाद मेजबान समुदाय की सांस्कृतिक और सामाजिक संरचना को काफी प्रभावित कर सकते हैं। यह या तो एक सरल सांस्कृतिक बहाव या अधिक जटिल उच्चारण के परिणामस्वरूप हो सकता है। यह तभी हों सकता है जब पर्यटक को एक बेहतर संस्कृति से आने के रूप में देखा जाए। मैथिसन और वाल (1992) ने बताया है कि जब मेजबान अपने मेहमानों के सामने आने पर अपने व्यवहार को बदल देते हैं लेकिन जब पर्यटक वापस जातें है तो वे फिर से सामान्य हो जाते हैं, इसे एक सांस्कृतिक बहाव के रूप में देखा जाता है। यह अधिक प्ररूपी है। हालांकि यदि व्यवहार में परिवर्तन एक अधिक स्थायी घटना बन जाता है, जहां सांस्कृतिक परिवर्तन जो पर्यटकों के संपर्क में आने के कारण होता है और एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी के लिए सौंप दिया जाता है, तो यह उच्चारण का एक हिस्सा हो सकता है। इसे अनुवांशिक व्यवहार के रूप में देखा जा सकता है। उदाहरण के लिए भारत के हिल-स्टेशन जो कि अंग्रेजों के पसंदीदा पर्यटन स्थल थे, ब्रिटिश संस्कृति का बहुत हिस्सा था जो आज भी कायम है। नैश ने इस बात की चर्चा की है की “जब वे (मेज़बान समुदाय) पर्यटन स्थल बन जाते हैं तो अनुकूलन करते हैं” (1996:121)। होटल, रिसॉर्ट और मनोरंजन केंद्रों के निर्माण के साथ, मेजबानों को उन सभी जरूरतों को पूरा करना होगा जो पर्यटक मेहमानों को ‘घर महसूस” करा सके। इसके लिए यह स्पष्ट है कि मेजबानों को एक और वातावरण बनाने के लिए अपने स्वयं के जीवन में महत्वपूर्ण बदलाव करने होंगे जो उनके रोजमर्रा का हिस्सा नहीं है।

   पर्यटक-मेजबान संपर्क की अक्सर “गलत व्याख्या” होती है। प्रत्येक के पास एक दूसरे की वास्तविकता की अवास्तविक अपेक्षाएं होती हैं और मानवविज्ञानी इन अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए अपने व्यवहार के प्रकारों को देखने की अनुमति देता है| अपनी पुस्तक, पर्यटन इमेजिनरी एश्रोपेलॉजिकल एग्रोच (2014) में सालाजार और ग्रेबर्न ने इन्हीं पहलुओं की चर्चा की है |

सत्रीय कार्य-II

क- उपयुक्त उदाहरणों के साथ पर्यटन में बाजारीकरण की व्याख्या कीजिए।

उत्तर – मानवविज्ञान शोध के एक उद्देश्य के रूप में, जैसा कि शेफर्ड, 2002 (ग्रेबर्न, 1983:10 नैश और स्मिथ, 1991: 22) ने कहा है, पर्यटन को प्रश्नों की एक श्रृंखला द्वारा परिभाषित किया जा सकता है, आकार दिया जा सकता है। यह तीन मुद्दों के आस-पास घूमता हैं : व्यक्तिगत प्रेरणा (लोग यात्रा क्‍यों करते हैं?), आर्थिक लाभ और हानि ( कौन इस यात्रा से लाभान्वित होते हैं?) और पर्यटन के सांस्कृतिक प्रभाव (क्या पर्यटन ‘सांस्कृतिक’ परिवर्तन लाता है?)। इस प्रकार संस्कृति के बाजारीकरण में संस्कृति का निर्माण शामिल है जिसमें सांस्कृतिक वस्तुओं और लक्षणों को एक विशेष संस्कृति के प्रतीक के रूप में प्रचारित किया जा रहा है। ऐसा पुनर्निर्माण मूल सांस्कृतिक तत्व को कई बार कमजोर कर सकता है।

   क्लॉड लेवी-स्ट्रॉस ने ट्रीस्ट्स ट्रौपिक्स (1972: 39-40, 45, शेफर्ड 2002) मेँ कहा किः “यात्रा की किताबें और यात्री (समकालीन पर्यटक) केवल उस चीज के भ्रम को बनाए रखने के लिए सेवा करते हैं जो अब मौजूद नहीं है”; वास्तविक यात्रा को ‘मोनोकल्चर’ के माध्यम से बदलकर ‘लुप्त वास्तविकता’ के लिए एक व्यर्थ खोज में बदल दिया गया है। मोनोकल्चर की अवधारणा संस्कृति के बाजारीकरण से उत्पन्न होती है। ‘वास्तविक संस्कृति’ के रूप में कौन सी पर्यटन परियोजनाएं वास्तव में संस्कृति का एक हिस्सा है जिन्हें पर्यटक के लाभ के लिए पुन: निर्मित किया गया है, ताकि अनुभव के वास्तविक होने का आभास हो सके। शेफर्ड (2002: 184) के अनुसार सांस्कृतिक बाजारीकरण को कई विद्वानों द्वारा सांस्कृतिक पर्यटन के उस घटक के रूप में माना जाता है जो पारंपरिक सांस्कृतिक रूपों में स्थानीय रुचि को पुनर्जीवित करने में मदद कर सकता है, इस प्रकार दोनों गायब हो जाने वाले सांस्कृतिक लक्षणों को पुनर्जीवित करते हैं, और मेजबान को भौतिक लाभ प्रदान करते हैं (मैककेन, 1989 (1977))। यह इस तथ्य को भी सामने लाता है कि संस्कृति के बाजारीकरण में, मेजबान क्या ‘पवित्र’ है (जो पर्यटन के लिए खुला नहीं है ) और क्‍या ‘अपवित्र’ है (जो बाजारीकरण के लिए खुला है) के बीच आसानी से अंतर कर सकता है (पिकार्ड 1996,1997)। इस संबंध में, डाएने, (2007: 170-173) के काम कमोडिफिकेशन ऑफ बिलीफ़्स का उदहारण दिया जा सकता है। उन्होंने विश्वासों की खोज और अभिव्यक्ति में नए और अलग संदर्भों के निर्माण में बाजारीकरण की भूमिका की जांच की है। यह काम भूत पर्यटन, प्रेतवाधित होटल और स्कॉटलैंड में प्रेतवाधित रेस्तरां के विज्ञापनों के अभ्यास में दिखता है। तर्कसंगत और वैज्ञानिक मान्यताओं की एक आधुनिक दुनिया में, भूतों और प्रेतवाधित घरों की अवधारणा रोमांच और रहस्य की आभा रखती है जो यात्रा के समग्र उत्साह को जोड़ती है। इसलिए, ऐसे तत्व जो इससे जुड़े हुए हैं और स्कॉटलैंड आने वाले पर्यटकों के लिए प्रमुख आकर्षण बनते हैं। ‘पुराने मिथकों और पुरानी पत्नियों ” की कहानियां ऐसी पुनः अधिनियमित और पुनर्जीवित समकालीन उपभोक्ता संस्कृति का हिस्सा हैं| प्रेतवाधित तत्वों को स्कॉटलैंड के इतिहास के हिस्से के रूप में पेश किया जाता है, जहाँ संदिग्ध व्यक्तियों की खोज, युद्ध और विपत्तियां जिन्होंने अतीत में देश को तबाह कर दिया था, प्रामाणिकता को आभा प्रदान करता है। उदाहरणतः प्रत्येक पर्यटक जो स्कॉटिश हाइलैंड्स गया था , वह नेस झील के दौरे पर भी गया। झील नेस को राक्षस कहानी के साथ प्रस्तुत किया गया था जिसे नेसी के नाम से भी जाना जाता है जो झील के पानी में रहता है।

ख- राजनीतिक अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण पर चर्चा करें।

उत्तर – राजनीतिक अर्थव्यवस्था में सामाजिक-आर्थिक बलों और शक्ति संबंधों का अध्ययन शामिल है जिससे बाजार के लिए वस्तुओं के उत्पादन की प्रक्रिया और इससे विभाजन, संघर्ष और असमानताएं उत्पन्न होती है। इस दृष्टिकोण की जड़ें औद्योगिक क्रांति के दौरान हुए बदलावों और 18 वीं और 19 वीं शताब्दियों के दौरान पश्चिमी यूरोप में पूंजीवाद के विकास से उत्पन्न होती हैं (बियांची 2018:88)। अपने शुरुआती दौर में राजनीतिक

अर्थव्यवस्था का अध्ययन, जैसा कि इसके संस्थापक विचारकों जैसे एडम स्मिथ (1723-1790), डेविड रिकार्डो (1772-1823) और जे.एस. मिल (1806-1873) ने औद्योगिक समाजों कसामाजिक संगठन पर पूंजीवाद के प्रभाव पर प्रकाश डालकर किया था| वे धन के उत्पाद और संचय [यानी, अर्थव्यवस्था) और वितरण (राजनीतिक आयाम) से चिंतित थे। बाद में मार्क्स (1818-1883) और एंगेल्स (1820-1895) ने सामाजिक वर्गों में धन के वितरण (या वितरण की कभी) पर ध्यान केंद्रित करके राजनीतिक अर्थव्यवस्था पर ध्यान केंद्रित किया | राजनीतिक अर्थशास्त्री जटिल और परिवर्तनशील आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक, तकनीकी और सांस्कृतिक शक्तियों का अध्ययन करते हैं, जो घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्थाओं के संगठन और गतिशीलता को आकार देते हैं (गिलपिन 2001: 40) | पर्यटन यिकास के संबंध में पर्यटन के विभिन्न क्षेत्रों पर किए गए अध्ययनों ने राजनीतिक अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण को ध्यान में नहीं रखा। यहां यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि पर्यटन पर मूल अध्ययन सांस्कृतिक, सौंदर्य और आर्थिक आयामों पर केंद्रित है और सभी मानव स्थितियों में निहित शक्ति समीकरणों पर ध्यान नहीं दिया जाता।

   यह बहुत बाद में 1980 के दौरान और 1970 के दशक की शुरुआत में, दुनिया भर मे असमान विकास पर ध्यान केंद्रित करता है, जिसमें असमानताओं और अन्य सामाजिक समस्याओं को केन्द्र में रखकर प्रमुखता के साथ विकास सिद्धांत पर महत्वपूर्ण शोध किया गया था| इसके साथ ही 1970 के दौरान यंग्स का, टूरिज्म: ब्लेसिंग या ब्लाइट (1973) और डे कद्द्‌ के टूरिज्मः प्रासपोर्ट टू डेवलपमेंट (1979) ने काम के साथ पर्यटन अध्ययनों का एक महत्वपूर्ण विश्लेषण किया गया था। इन दोनों कार्यों ने विकास और निर्भरता के सिद्धांत और राजनीतिक अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण से पर्यटन पर ध्यान केंद्रित करकपर्यटन के लाभ और हानि का गंभीर रूप से विश्लेषण किया है।

   निर्भरता सिद्धांत का मुख्य विषय विकास और विकासशील के बीच का संबंध है। निर्भरता सिद्धांतकारों का तर्क है कि विकासशील देशों के पास एक बाहरी और आंतरिक राजनीतिक, संस्थागत और आर्थिक संरचनाएं हैं जो उन्हें विकसित देशों के सापेक्ष निर्भर स्थिति में रखती हैं। जब विकासशील और विकसित देश वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में एक साथ आते हैं, तो यह देखा जाता है कि विकासशील देश (छोटे) विकसित राष्ट्रों (मुख्य) की अर्थव्यवस्था को पोषित कर रहे हैं| इस प्रकार निर्भरता सिद्धांतकारों के अनुसार, वैश्विक पूंजीवादी अर्थव्यवस्थाओं में परिघीय,छोटे /विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को शामिल करते हुए, न केवल केंद्र में मांगों पर संरेखित करने के लिए उत्पादन होता बल्कि प्रमुख देशों में आर्थिक अधिशेष के लिए शोषण भी होता है। जैसा कि केंद्र में प्रमुख देश उस अधिशेष के आधार पर उसे विकसित करना जारी रखते हैं, विकासशील (परिधि) देश अविकसितता से संघर्ष करते है। निर्भरता और अविकसित सिद्धांत से उपजी राजनीतिक अर्थव्यवस्था ने पर्यटन अध्ययन अनुसंधान में बहुत कम ध्यान दिया है। यह ब्रिटान (1982) था जिसने इस दृष्टिकोण के महत्व को महसूस किया और पूंजीवादी संरचनाओं को समझने की कोशिश की, जो न केवल पर्यटन विकास को बढ़ावा देती हैं, बल्कि उनके साथ असमानताएं भी हैं जो विकास के असमान स्वरूप में दिखाई देती हैं। दूसरी ओर निर्भरता प्रतिमान यह भी तर्क देता है कि एक समाज में यह आंतरिक कारक नहीं हैं जो अविकसितता की ओर ले जाते हैं, बल्कि यह बाहरी राजनीतिक, संस्थागत और सामाजिक आर्थिक संरचनाएं हैं जो विकासशील देशों को विकसित देशों के सापेक्ष एक निर्भर स्थिति में रखती हैं। ए. फ्रैंक (1967) ने अपने काम कौपिटलिज्म एंड अंडर डेवलपमेंट इन लैटिन अमेरिका में अविकसितता ने वैश्विक आर्थिक प्रणाली को दो ध्रुव-एक विकसित ‘महानगरीय केंद्र” और एक अविकसित ‘परिधि’ के रूप में वर्णित किया | छोटे परिधि से ली गई कच्ची सामग्री को केंद्र में निर्मित वस्तुओं में परिवर्तित किया जाता है और फिर वापस परिधि में निर्यात किया जाता है। परिधि तब अपने कच्चे माल की खरीद के लिए केंद्र पर निर्भर हो जाती है और बदले में निर्मित सामान भी खरीद लेती है, जिसके परिणामस्वरूप परिधि से केंद्र तक पूंजी का प्रवाह होता है| इसे रिसाव के रूप में जाना जाता है | निर्भरता सिद्धांतकार मूल और परिधि के बीच इस निर्भरता के बारे में चर्चा करते हैं

ग- उपयुक्त उदाहरणों के साथ धरोहर (हेरिटेज) स्थलों पर पर्यटन के प्रभाव का परीक्षण करें।

उत्तर – पर्यटन के प्रभावों को पूरी तरह समझने के लिए इस क्षेत्र में बड़े बड़े अनुसंधान किए गए हैं। यद्यपि यह देखा गया है कि पर्यटन के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव हैं, उनका मूल्यांकन अलग-अलग लोगों द्वारा अलग-अलग तरीके से किया जा सकता है और वास्तव में इन प्रभावों के वांडनीय और अवांछनीय होने के रूप में काफी असहमति  हो सकती है।

आर्थिक परिणाम

पर्यटन के विकास के लिए प्रमुख प्रोत्साहन आर्थिक है और यह समझा गया कि पर्यटन आर्थिक और सामाजिक परिवर्तन के लिए एक शक्तिशाली लाभकारी कारक था। पर्यटन उद्योग ने रोजगार, उद्यमशीलता गतिविधे और संशोधित भूमि उपयोग और आर्थिक संरचना को प्रेरित किया। अधिकांश अध्ययनों ने उन आर्थिक लाभों पर जोर दिया है जो गंतव्य क्षेत्रों विशेष रूप से विकासशील देशों, जिनमें आमतौर पर आय का निम्न स्तर, धन और आय का असमान वितरण, बेरोजगारी का उच्च स्तर, कृषि और निर्वाह गतिविधियों पर भारी निर्भरता होती है, को प्राप्त है। आर्थिक प्रभाव के मूल्यांकन ने बहुत ही बहुमूल्य जानकारी प्रदान की जो आगे जाकर पर्यटन विकास नीतियों के निर्माण में सहायता करता है। कई विकासशील देशों और दूरस्थ स्थलों ने जिन्हें पर्यटक स्थल के रूप में खोला गया था, ने विशेष रूप से रोजगार के पद्धति मेँ आर्थिक बदलाव देखे हैं। चूंकि पर्यटन एक श्रम गहन सेवा उद्योग है, इसलिए यह बड़ी स॑ख्या में अर्ध-कुशल और अकुशल श्रमिकों को रोजगार देता है, जो थोड़े से प्रशिक्षण के साथ इस आतिथ्य उद्योग में पर्यटक गाइड, टूर ऑपरेटर, ट्रांसपोर्टर्स आदि के रूप में शामिल होते हैं। कई किसान और मजदूरी करने वाले लोग शहरी क्षेत्रों में पर्यटन में अधिक लाभप्रद रोजगार पाने के लिए कृषि कार्यों को छोड़ देते हैं।

   कृषि से पर्यटन में होने वाला संरचनात्मक परिवर्तन भी भूमि उपयोग पद्धति में परिवर्तन लाता है। मानवशास्त्रीय अध्ययनों से पता चला है कि यद्यपि इसने दिहाड़ी मजदूरी के अवसरों का सृजन किया लेकिन इसने कृषि और निर्वाह गतिविधियों को नष्ट कर दिया। मैनस्पर्गर (1995) ने विश्लेषण किया कि कैसे प्रशांत द्वीपवासियोँ के बीच पर्यटन ने निर्वाह गतिविधियों को समाप्त कर दिया और स्थानीय लोगों को बाहरी दुनिया पर अधिक निर्भर बना दिया। रोसेनबर्ग (1988) ने तर्क दिया कि पर्यटन ने फ्रांस के एक छोटे से पहाड़ के गांव में कृषि को खत्म करने में योगदान दिया, जहां सकी ढलानों को साफ करने के लिए मुख्य रूप से चरने वाले जानवरों का उपयोग किया जाता था। पर्यटन भूमि के लिए प्रतिस्पर्धा को भी बढ़ाता है, भूमि की कीमतें बढ़ाता है और भूमि के विखंडन में भी योगदान देता है। उदाहरण के लिए, पर्यटन के कारण अचल संपत्ति की कीमतें बढ़ सकती हैं जो उन स्थानीय लोगों, जो संपत्ति खरीदने का इरादा रखते हैं ,के लिए कठिनाई पैदा कर सकती हैं|

सामाजिक परिणाम

पर्यटन के सामाजिक और सांस्कृतिक प्रभावों पर शोध तीन अलग-अलग श्रेणियों में आते हैं:

  1. पर्यटक – यहाँ शोध पर्यटकों की गतिविधियों प्रेरणाओं दृष्टिकोणों और अपेक्षाओं और उनके अनुरुप क्रय निर्णयों की मांग पर कॉंद्रित है।
  2. मेजबान- गंतव्य क्षेत्रों के निवासियों, सेवाओं को प्रदान करने में लगे श्रम और पर्यटक उद्योग के स्थानीय संगठन को देखता है।
  3. पर्यटक-मेजबान अंतर्सबंध- मेजबान और अतिथियों के बीच संप्रकाँ की प्रकृति पर अनुसंधान और संपर्क के परिणामों से संबंधित है।

पर्यटन के सामाजिक परिणाम मूल रूप से उन तरीकाँ की गणना करते हैं जिनमें पर्यटन प्रणाली ने मूल्य प्रणाली, व्यक्तिगत व्यवहार, पारिवारिक संरचना और रिश्तों में परिवर्तन, सामूहिक जीवन शैली, नैतिक आचरण, पारंपरिक समारोहों और सामुदायिक संगठनों में योगदान दिया है| मेजबान-पर्यटक का आमना सामना बहुत ही कम समय के लिए होता है, जो अक्सर सतही होती है; उनके बीच संचार / बातचीत में गहराई की कमी होती है यह मुख्य रूप से ‘पर्यटक बस्ती’ तक सीमित है (होटल और रिसॉर्ट्स) जो असमान प्रकृति का है। पर्यटक-मेजबान बातचीत सकारात्मक और नकारात्मक दोनों हो सकती है। मेजबान-अतिथी बातचीत को प्रभावित करने वाले कारक हैं – ठहरने की अवधि, पर्यटकों का भौतिक अलगाव (होटल /रिसॉर्ट्स के लिए), भाषा और संचार आदि।

   मेजबानों और अतिथियों के बीच संबंध कैसे बनते हैं और वे समय के साथ कैसे बदलते हैं, पर्यटन के मानवशास्त्रीय अध्ययन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। विविध-सांस्कृतिक बातचीत और मेजबान और अतिथियों के बीच होने वाला वाणिज्यिक लेनदेन यह दर्शाता है कि पर्यटन मेजबान के समाज को कैसे प्रभावित करता है। एक तरफ पर्यटन व्यवसाय लाता है और इस प्रकार मेजबान आबादी के लिए रोजगार के अधिक अवसर प्रदान करता है। ऐसे कई अन्य कारक हैं जो विभिन्‍न संस्कृतियों या उपसंस्कृतियों से आने वाले अजनbiनब्ि/ने के लिए उत्पादन होता है(बियों के परस्पर क्रिया की जटिल प्रकृति को प्रभावित करते हैं, जैसे अतिथी के प्रवास की अवधि, दृष्टिकोण और अपेक्षाएँ (मेजबान और अतिथि दोनों की), पर्यटन के अनुरुप मौसम की अवधि और संस्कृति मध्यस्थ (दलाल)’ या ‘सीमांत मानव’ की भूमिका इत्यादि।

सत्रीय कार्य-III

क- शारीरिक बनाम जैविक मानवविज्ञान: एक सिंहावलोकन

उत्तर – पर्यटक

एक पर्यटक को “अस्थायी रूप से सावकाश व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया गया है जो स्वेच्छा से परिवर्तन का अनुभव करने के उद्देश्य से धर से दूर किसी स्थान पर जाता है’ (स्मिथ 1977:21 ग्रेवर्न 1983 से उद्धृत) | जबकि लिंक 20085, के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति अपने घर से, व्यवसाय या सुख या अन्य कारणों से, कम से कम 24 घंटों के लिए 80 किलोमीटर की यात्रा करता है, वह पर्यटक के रूप में जाना जाता है। अरुममोझ्ी और पन्नीरसेल्वम (2013: पृष्ठ संख्या) ने कहा कि पर्यटन अधिवास के बाहर लोगों की अल्पकालिक संगति है जहां वे सामान्य रूप से रहते हैं और एक गंतव्य के लिए काम करते हैं जो स्पष्ट रूप से उनकी आवश्यकताओं को पूरा करता है। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ), 19% उपरोक्त परिभाषा का एक सरलीकृत संस्करण प्रदान करता है।

  1. घरेलू (किसी देश के निवासी केवल उस देश के भीतर यात्रा करते हैं)
  2. अन्तर्गामी (किसी दिए गए देश में यात्रा करने वाले गैर-निवासी)
  3. विदेश जाने वाले (एक देश के निवासी दूसरे देश में यात्रा करते हैं)

इस आधार पर, पर्यटकों को स्थानीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों में वर्गीकृत किया गया है।

पर्यटन

पर्यटन एक ऐसी “संयोजक पद्धति” है, जिसमें आवादी “सबसे दूर हो जाती है”, यहाँ सभी रोजमर्र के जीवन का प्रतिनिधित्व करते हैं जिसे हम सामान्य जीवन का दिन कहते हैं, जहाँ हम हमारी भूमिकाओं के अनुसार कुछ निर्दिष्ट गतिविधियाँ करते हैं चाहे हम घर में हो या कार्यालय में हों (मैककैनल 1976:13, ग्रेबर्न 1983:11 से उद्धृत)। पर्यटन में हमारे सामान्य रोजमर्रा के सांसारिक जीवन से मिला एक विराम (ब्रेक) है, जहां कोई व्यक्ति दूसरे स्थान पर चला जाता है और वहाँ उसका दिन सामान्य दिनचर्या से संबंधित नहीं होता है। इस छोटे से अंतराल का मकसद स्वयं को फिर से जीवंत, पुनर्जीवित और तरोताजा करना है ताकि छुट्टी समाप्त होने के बाद ऊर्जा के साथ दिनचर्या को फिर से प्राप्त किया जा सके | ग्रेबर्न ने कहा है कि “पर्यटन में प्रतिभागियों का सामान्य जीवन और जीविकोपार्जन के लिए व्यवसाय से अलग होना शामिल है, और एक अन्य प्रकार की नैतिक स्थिति में प्रवेश करना है जिसमें मानसिक, अभिव्यंजक और सांस्कृतिक आवश्यकताएं आगे की तरफ आती हैं”।

ख- पर्यटन और संस्कृति

उत्तर – संस्कृति में एक सामाजिक समूह के सदस्यों के रूप में सीखे हुए व्यवहार होते है। जिसें ज्ञान, महत्व और परंपराओं द्वारा हासिल किया जाता हैं, वे पीढ़ियों के माध्यम से पहुँचती हैं। रिचर्ड्स (1996) ने तर्क दिया कि संस्कृति एक जटिल संपूर्णता है और यह एक प्रक्रिया और उत्पाद दोनों है। एक प्रक्रिया के रूप में संस्कृति में एक विशिष्ट समूह के व्यक्तियों का व्यवहार शामिल होता है जिसके माध्यम से लोग अपने और अपने जीवन का बोध कराते हैं। उत्पाद के रूप में संस्कृति में व्यक्तिगत समूह की गतिविधियाँ शामिल हैं जिनसे कुछ अर्थ जुड़े हुए हैं। रिचर्ड्स आगे तर्क देते हैं कि पर्यटन में ये दोनों अतिव्याप्त और एकीकृत हैं। जो पर्यटक प्रामाणिकता की तलाश में सांस्कृतिक अनुभवों में संलग्न हैं उन्हें विशेष रूप से उनके उपभोग के लिए विकसित संस्कृति प्रदान की जाती है। इस प्रकार, पर्यटन संस्कृति को ‘एक संस्कृति की प्रक्रिया’ से संस्कृति को उत्पाद के रूप में’ परिवर्तित कर देती है | यह कहा जा सकता है कि पर्यटन स्वयं एक सांस्कृतिक उद्योग है जिसमें सांस्कृतिक उत्पादों और अनुभवों को पर्यटक आकर्षण के रूप में प्रचारित किया जाता है (प्रेन्टिस 1997) |

   पर्यटन और संस्कृति के बीच एक परस्पर संबंध है | पर्यटन, संस्कृति और समाज दोनों को प्रभावित करता है और संस्कृतियों और समाज की बनावट को प्रभावित करता है। जब हम पर्यटन और संस्कृति के बीच अंतर-संबंध का अध्ययन करते हैं, तब हमें पता चलता है कि इसके कुछ बुनियादी तत्व हैं। बेहतर समझ के लिए नीचे दिए गए तत्वों को रेखांकित करें:

  1. संस्कृति-संक्रमण यानी पर्यटक और मेजबान आबादी के बीच संस्कृति का संपर्क |
  2. निर्मित” पर्यटक अनुभव बनाम प्रामाणिकता |
  3. संस्कृति का संशोधन यानी संस्कृति को एक वाणिज्यिक संसाधन के रूप में देखा जाता है (पर्यटकों और विपणन विशेषज्ञों द्वारा संस्कृति को अद्वितीय या असामान्य माना जाता है) ।
  4. एक संभावित पर्यटन स्थल में बदलने के लिए एक स्थल का छवि निर्माण।

ग- पर्यावरण पर्यटन

उत्तर – पर्यावरणीय पर्यटन’ या इको टूरिज्म की पहली औपचारिक परिभाषा संभवतः मैक्सिकन वास्तुकार हेक्टर सेबलोस-लास्कुरैन द्वारा दी गई थी | पर्यावरणीय पर्यटन को “पर्यावरणीय रूप से जिम्मेदार, ज्ञानवर्धक यात्रा और प्रकृति का आनंद लेने और उसकी प्रशंसा करने के लिए, प्रायः बाधा रहित प्राकृतिक क्षेत्रों में सम्बंधित यात्रा करने के रूप में परिभाषित किया जा सकता है और अतीत और वर्तमान दोनों में सांस्कृतिक विशेषताओं के साथ) जो संरक्षण को बढ़ावा देता है, जिसमें कम आगंतुक प्रभाव है, और जो स्थानीय आबादी की सामाजिक-आर्थिक भागीदारी को सक्रिय रूप से लाभ प्रदान करता है” (सेबलोस-लस्कुरैन 1996)। इस परिभाषा के अनुसार, इको टूरिज्म सांस्कृतिक और पर्यावरणीय पर्यटन दोनों को शामिल कर सकता है और स्थानीय आबादी को लाभ पहुंचा सकता है जो गतिविधि का एक अभिन्न अंग भी है। तभी से पर्यावरणीय पर्यटन पर विभिन्न परिभाषाएँ उभर कर सामने आई। अधिकांश परिभाषाएँ पर्यावरणीय पर्यटन को पर्यटन के एक विशेष रूप में अनुभव करती हैं जिसके तीन महत्वपूर्ण मानद॑ड हैं:

क) पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रावधान जिसमें सार्थक तरीके से समुदाय की भागीदारी शामिल है;

ख) मेजबान समुदाय के लिए लाभदायक; तथा

ग) आत्मनिर्भर।

कैरियर (2005) ने कहा था कि पर्यावरणीय पर्यटन उल्लेखनीय है क्योंकि यह पर्यटन उद्योग में सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्र में से एक है। ‘पर्यावरणीय पर्यटन’ को कभी-कभी पर्यटन के विकल्प रूप में जाना जाता है; इसका उपयोग सांस्कृतिक पर्यटन के साथ समानार्थी रूप से भी किया जाता है। इसे औपचारिक रूप से, “प्राकृतिक, सामाजिक और सामुदायिक मूल्योँ के अनुरूप पर्यटन के एक रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है। यह मेजबान और मेहमानों दोनों को सकारात्मक और सार्थक बातचीत एवं साझा अनुभवों का आनंद लेने की अनुमति देता है| स्थानीय समुदायों पर पर्यटन के प्रभाव की निंदा करने के बजाय, सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय लक्ष्यों की एक विस्तृत श्रृंखला को प्राप्त करने के लिए सर्वोत्तम उपाय के रूप में पर्यावरणीय पर्यटन की सराहना करने की प्रवृत्ति है” (स्ट्रॉन्‍जा 2001: 274)। समकालीन समय में, मानवविज्ञानी पर्यटन के रूपों जैसे पर्यावरणीय पर्यटन, सांस्कृतिक पर्यटन, समुदाय-आधारित-पर्यटन या सामान्य वैकल्पिक पर्यटन पर ध्यान दे रहे हैं।

घ- तीर्थ यात्रा

उत्तर – मानवविज्ञानियों ने तीर्थयात्रा के अध्ययन में रुचि दिखाई है, जिसकी शुरुआत वान गेनेप्स (1906 (1960)) यइट द पैसेज से हुई और इसे विक्टर टर्नर (1969) ने आगे बढ़ाया, जो संस्कारों और तीर्थयात्रा को बदलाव के मार्ग के रूप में समझाते थे। जैसा कि टर्नर द्वारा दिखाया गया था, समाज में एक व्यक्ति सामाजिक बदलाव के तीन चरणों से गुजरता है।  पहला पथक्वरण का वह चरण है जहाँ व्यक्ति को उसकी / उसके समुदाय के साथ रोजमर्रा की गतिविधियों से हटा दिया जाता है, दूसरा है निर्मलता जहाँ व्यक्ति को कर्मकांड और पवित्र वातावरण में रखा जाता है और तीसरा, पुनर्मिलन जहाँ व्यक्ति को उनके नियमित जीवन में वापस रखा जाता है| निर्मलता का दूसरा चरण कम्युनिटास (सामुदायिकता) की एक स्थिति भी रखता है जो उस समय उसी प्रक्रिया से गुजर रहे अन्य लोगों के साथ साझा किया जाता है | टर्नर ने तीर्थयात्रा पर चर्चा करने के लिए इसी रूपरेखा का उपयोग किया। तीर्थयात्रा में भी, उन्होंने कहा कि लोग एक व्यवस्थित, सामान्य शासन से चलते हैं और एक तीर्थस्थल के पवित्र और निर्मल वातावरण मेँ प्रवेश करते हैं| पर्यटन का अध्ययन करने वाले मानवविज्ञानी कई पर्यटन अनुभवों के साथ टर्नर की तीर्थयात्रा के विवरण में समानता खोजने में सक्षम रहे हैं। मानवविज्ञानी ने इसे टर्नर के कम्युनिटास के विचार से जोड़ा है जहां लोग ऐसी स्थितियों में “सहजता, व्यक्तिगत पूर्णता और सामाजिक एकजुटता” अनुभव करते हैं (नैश और स्मिथ 1991)। इसका एक उदाहरण लोकप्रिय त्योहार फिएस्टा डे सैन फरमिन के दौरान लोगों द्वारा महसूस की गई भागीदारी है. जो स्पेन के पंपोला में आयोजित की जाती है या वॉल्ट डिज़नी वर्ल्ड का दौरा करते समय महसूस की जाती है।

च- संस्कृति-संक्रमण

उत्तर – ‘संस्कृति-संक्रमण’ एक प्रमुख मानवशास्त्रीय अवधारणा है जो यह समझाता है की पर्यटन संस्कृतियों को कैसे प्रभावित करता है। बर्न्स (1999:99) संस्कृति संक्रमण को “दो अलग-अलग समाजों के बीच किसी भी गंतव्य पर एक संपर्क के परिणामस्वरूप संस्कृतियों की एक या कुछ तत्वों को उधार लेने की प्रक्रिया’ के रूप में परिभाषित करता है। “इसे आगे समझाने के लिए हम एक उदाहरण के रूप में भाषा का हवाला दे सकते हैं। भारत के अधिकांश स्थानों जैसे आगरा, जोधपुर और जयपुर में जो कि पर्यटकों द्वारा बार-बार देखा जाता है कोई भी इस बात पर ध्यान देगा कि पर्यटन उद्योग में लगे लोग जैसे फेरीवाले, लोक कलाकार और गाइड जो कि अंग्रेजी, फ्रेंच और अन्य विदेशी भाषाओं को बोलते हैं, भले ही उनमें से कई पढ़ने या लिखने में सक्षम नहीं हैं।

   संस्कृति संक्रमण सिद्धांत के ढांचे के भीतर, यह तर्क दिया गया है कि जब संपर्क एक मजबूत संस्कृति और कमजोर व्यक्ति के बीच होता है, तो यह आमतौर पर पहले का होता है जो बाद वाले को प्रभावित करता है (पेटिट-स्किनर 1977: 85)। अध्ययनों की अंतर्निहित धारणा यह रही है कि संस्कृति परिवर्तन मुख्य रूप से स्वदेशी मेजबान समाज  की परंपरा, रीति-रिवाजों और मूल्यों के बजाय पर्यटक समूह में होते हैं। इससे धीरे-धीरे संस्कृतियों का स्थानीयकरण हों सकता है और स्थानीय पहचान मजबूत पर्यटक समूह में मिल जाता है। जैसा कि नुन्ज़ (1989:266) कहते हैं, जब दो संस्कृतियां संपर्क में आती हैं, तो प्रत्येक उधार लेने की प्रक्रिया के माध्यम से एक दूसरे की तरह होने लगते है। यह भी माना जाता है कि जो पर्यटक अक्सर पश्चिमी और धनवान होते हैं, उनके मेजबान की तुलना में उनके मेजबान से उधार लेने की संभावना कम होती है। मेजबान समाजों को पर्यटन के अनुकूल बनाने और पर्यटकों की आवश्यकताओं को पूरा करने के प्रयास के रूप में देखा जाता है और इस प्रक्रिया में वे पर्यटकों के मनोभाव और मूल्यों को आत्मसाध करके पर्यटकों जैसा बन सकते हैं |

छ- पर्यटन और सतत विकास

उत्तर – सतत विकास विशेष रूप से विकासशील देशों में अंतरराष्ट्रीय और गैर सरकारी संगठनों के लिए ध्यान केंद्रित करने का एक महत्वपूर्ण विषय बनता जा रहा है। यह पर्यावरण को संरक्षित करने की आवश्यकता के बारे में बढ़ती जागरूकता का परिणाम है (ग्रीव्स एट अल, 2014) | विश्व पर्यावरण और विकास आयोग (डब्ल्यूसीईडी ) ने ‘अवर कॉमन फ्यूचर नाम से ब्रांटलैंड रिपोर्ट प्रकाशित की। ब्रांटलैंड रिपोर्ट ने स्थायी विकास को “विकास के रूप में परिभाषित किया है जो भविष्य की पीढ़ियों की अपनी जरूरतों को पूरा करने की क्षमता से समझौता किए बिना यर्तमान की जरूरतों को पूरा करता है” (1987: 43)।

   जैसा कि रिपोर्ट हाशिए के स्वदेशी समुदायों के संबंध में है, जिसमें निर्दिष्ट दिशानिर्देश  स्थायी विकास नीतियों को लागू करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं। पर्यावरण का संरक्षण और गरीबी उन्मूलन सतत विकास के महत्वपूर्ण क्षेत्र बने हुए हैं, फिर भी स्थानीय समुदाय की भागीदारी और सतत विकास के प्रयासों में उनके नियंत्रण पर भी जोर दिया गया है। स्वदेशी समुदायों के प्राकृतिक संसाधनों को बनाए रखने के लिए, कभी-कभी स्थायी पर्यटन के रूप में जाना जाने वाला इकोटूरिज्म पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। ये पर्यावरणीय पर्यटन प्रयास ऐसे तंत्र को अपनाने की कोशिश करते हैं जो यह सुनिश्चित करते हैं कि पर्यावरणीय पर्यटन द्वारा उत्पन्न लाभ बाहरी एजेंसियों के बजाय स्वदेशी स्थानीय समुदाय को लाभान्वित करें (ग्रीव्स, एवं अन्य, 2014)। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि स्वदेशी समुदायों और बाहरी एजेंसियों के बीच इस तरह की साझेदारी, हालांकि यह कागज पर अच्छी दिखाई दे सकती है, लेकिन इस तरह की साझेदारी में अक्सर संघर्ष और शक्ति के असंतुलन का सामना करना पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.